jump to navigation

लम्हे January 1, 2007

Posted by silentEcho in Rhyme junction.
trackback

Here’s the complete version:

गुज़ारने से पहले गुज़र गए, लौट कर आने से मुकर गए ।
दस्तक देकर बुलाया मुझे, कभी हँसाया कभी रुलाया मुझे ॥

रात फर्श पर बिखर गए, सय्यारों से अर्श पर निखर गए ।
बुहार कर कोने मे रखा, जाने कितना वक्त सोने मे लगा ॥

सुबह गीली करवटों पर दिखे, मेरे दिल में सोज़ हो गए ।
चेहरे कि सलवटों पर दिखे, मेरे तुज़ुक-ए-रोज़ हो गये ॥

अब शाम-ए-गुर्बत है यारों, कुछ तन्हाई सी पाई जाती है ।
प्याले के टूटे टुकडों में, उनकी परछाई सी पाई जाती है ॥

कैसे रोकें आँखों में उन्हें, खारे पानी से बह जाते हैं यूँही ।

थम जाएँ तो साँस लें ‘गाफिल’, बरंगे-हवा उड जाते हैं यूँही॥

Comments»

No comments yet — be the first.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: